महात्मा गांधी एक ऐसे व्यक्ति हैं जिन्हें भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में किसी परिचय की जरूरत नहीं है । सत्य और अहिंसा के पुजारी जिन्होंने बिना शस्त्र उठाये अंग्रजों को झुका दिया और भारत को आजाद कराया ।

सत्य एक है और मार्ग अनेक

पाप से घृणा करो पापी से नहीं

तभी बोलो जब वो मौन से बेहतर हो

जहां पर प्रेम है वहां पर ही जीवन है

क्रोध और असहिष्णुता सही समय के दुश्मन हैं

आप एक विनम्र तरीके से पूरी दुनिया को हिला सकते हैं

कभी कुछ करे तो उसे प्रेम से करें या कभी उसे करें ही नहीं

कमजोर कभी क्षमा नहीं करता क्षमा शीलता बलवानो का गुण है

सत्य बिना जन समर्थन के भी खडा रहता है क्योंकि वह आत्म निर्भर है

स्वयं को जानने का सर्वश्रेष्ठ तरीका है स्वयं को दूसरो की सेवा में डूबो देना

Mahatma Gandhi

पहले वह आप पर ध्यान नहीं देंगे फिर आप पर हंसेंगे फिर आप से लड़ेंगे तब आप जीत जाएंगे

MAHATMA GANDHI

जब भी आप का सामना किसी विरोधी से हो तो आप उसे प्रेम से जीते

शक्ति शारीरिक क्षमता से नहीं आती है यह अदम्य इच्छा शक्ति से पैदा होती है

ऐसे जियो जैसे कि तुम कल मरने वाले और ऐसे सीखो जैसे कि तुम हमेशा के लिए जीने वाले हो

आप मानवता के विश्वास को मत खोइए मानवता एक सागर की तरह है सागर की कुछ बूंदें गंदी हो जाने तो सागर गंदा नहीं हो जाता

दुनिया में ऐसे लोग है जो इतने भूखे हैं कि भगवान उन्हें किसी और रुप में नहीं दिखता सिवाय रोटी के रूप में

अपनी गलती को स्वीकारना झाड़ू लगाने के समान है जो सतह को चमकदार और साफ बना देती है

प्रेम दुनिया की सबसे बड़ी शक्ति है हम जिस की कल्पना कर सकते उसमें से यह सब से नम्र है

कोई त्रुटी तर्क करने पर सत्य नहीं बन सकती और इसी प्रकार कोई सत्य त्रुटी नहीं बन सकती क्योंकि कोई उसे देख नहीं रहा

मित्र के साथ मित्रता पूर्ण होना आसान है लेकिन जो आपको शत्रु समझता है उसके साथ मित्रता पूर्ण होना सच्चे धर्म का सार है

आप मुझे जंजीरों में जकड़ सकते हैं मुझे यातना दे सकते हैं यहां तक कि आप इस शरीर को भी नष्ट कर सकते हैं लेकिन आप कभी भी मेरे विचारों को कैद नहीं कर सकते

मृत अनाथ और बेघर को इससे क्या फर्क पड़ता है की तबाही सर्व अधिकार है या सिर्फ स्वतंत्रता और लोकतंत्र के पवित्र नाम पर लायी जाती है

ज्ञान पर जरुरत से अधिक यकीन करना मूर्खता है यह याद दिलाना आवश्यक है की सबसे मजबूत कमजोर हो सकता है और सबसे बुद्धिमान गलती कर सकता है

मैं हिंसा का विरोध करता हूं क्योंकि जब ऐसा लगता है कि वो अच्छा कर रही है तब अच्छाई अस्थाई होती है और वो जो बुराई करती है वो स्थाई होती है

हम जो दुनिया के जंगलों के साथ कर रहे हैं वह कुछ और नहीं बल्कि एक प्रतिबिंब है जो हम अपने साथ और एक दूसरे के साथ कर रहे हैं

आदमी अक्सर वह बन जाता है जो वो होने में यकीन करता है अगर मैं यह चाहता हूं कि मैं वो चीज नहीं कर सकता तो यह संभव है कि मैं शायद सचमुच वह करने में असमर्थ हो जाऊं

विश्व के सभी धर्म भले ही और चीजों में अंतर रखते हो लेकिन सभी एक बात पर एकमत रहते है दुनिया में कुछ नहीं बस सत्य जीवित रहता है

निरंतर विकास हि जीवन का नियम है और जो व्यक्ति खुद को सही साबित करने के लिए हमेशा अपनी रुढ़िवादी परंपराओं को बरकरार रखने की कोशिश करता है वो खुद को गलत स्थिती मैं पहुंचा देता है

आप की मान्यताएं आपके विचार बन जाते हैं आपके विचार आपके शब्द बन जाते हैं आपके शब्द आपके कार्य बन जाते हैं आपके कार्य आपकी आदत बन जाते हैं आपकी आदत आपके मूल्य बन जाते हैं और आपके मूल्य आपकी नियति बन जाती है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here