ग्रेनेडियर योगेन्द्र सिंह यादव

योगेंद्र सिंह यादव का जन्म 10 मई 1980 में उत्तर प्रदेश के बुलंदशहर में हुआ था । महज 19 साल की इतनी कम उम्र में ही उन्होंने ऐसा काम कर दिखाया था जिसके लिए भारतीय सरकार ने इन्हें 4 जुलाई 1999 को परमवीर चक्र से सम्मानित किया था । इनके पिता करण सिंह यादव रिटायर्ड सेना ऑफिसर थे । इसलिए बचपन से ही इन्हें सेना में जाने का जुनून था ।

Yogendra Singh Yadav

योगेंद्र 16 साल की उम्र में सेना में भर्ती हो गए थे । और सेना में ट्रेनिंग के लिए चले गए । सेना में भर्ती होने के कुछ ही समय बाद उन्होंने शादी कर ली | उनकी शादी के कुछ दिन बीते होंगे कि उन्हें सरकार की तरफ से एक पत्र आया जिसमें उन्हें वापस कारगिल (जम्मू-कश्मीर) आने का आदेश था ‌। जब योगेंद्र कारगिल पहुंचे उस समय बटालियन वहां की सबसे ऊंची पहाड़ी तोलोलिंग पर लड़ाई लड़ रही थी |

उन्हें अपनी टुकड़ी के साथ हजार फुट की ऊंचाई पर बने दुश्मनों के बंकरो को तबाह करना था
उन्हें टाइगर हिल के ऊपर बने दुश्मनों के तीन बंकरो को तबाह करने के लिए सम्मानित किया गया था । दुश्मन के बंकर 1000 फुट की ऊंचाई पर स्थित ऊर्ध्वाधर पहाड़ पर थे पहाड़ पूरी तरह बर्फ से ढका हुआ था। ग्रेनेडियर यादव स्वेच्छा से उस पहाड़ पर चढ़ने के लिए तैयार थे उन्होंने अपने साथ कुछ साथी लिए और पहाड़ पर चढ़ने के लिए रस्सियों का सहारा लिया और एक दूसरे का हाथ पकड़ते हुए वह धीरे-धीरे और सावधानीपूर्वक पहाड़ी पर चढ़ने लगे । जैसे ही उनकी कुछ चढ़ाई शेष बाकी थी तभी दुश्मनों को उनके आने का पता लग गया और दुश्मन ने उनके ऊपर मशीन गन फायर कर दी । जिससे उनके कुछ साथी घटना स्थल पर ही शहीद हो गए ।

योगेंद्र को गले और कंधे में तीन गोलियां लग गयी थी और उनके एक हाथ ने काम करना बिल्कुल बंद कर दिया था । फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी और चढ़ाई को जारी रखा । शेष 60 फिट की चढ़ाई पूरी करने के बाद टाइगर हिल पर पहुंचकर दुश्मनों के तीन बंकरो को ग्रेनेट फैक कर तबाह कर दिया । इस लड़ाई में उन्हें 17 गोलियां लगी उनका बचना लगभग नामुमकिन था । फिर भी योगेंद्र आखरी सांस तक देश की सेवा के लिए लड़ते रहे

योगेंद्र की इस वीरता और देश प्रेम के कारण भारतीय सरकार ने उन्हें परमवीर चक्र से सम्मानित किया | भारतीय सेना में वह सबसे कम उम्र में परमवीर चक्र पाने वाले सैनिक थे ।


Note :- हमारे द्वारा दी गयी जानकारी मैं आपको कुछ गलत लगे तो तुरंत हमें कमेंट करे हम इसे अपडेट करते रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here